Jyada पानी पीना khatarnaak हो सकता है आपकी सेहत के लिए। हो जाइये सावधान!

0
71

Jyada पानी पीना khatarnaak – हम सब जानते है कि हमारे शरीर के लिए पानी पीना बहुत ही जरूरी है लेकिन क्या आप यह जानते है अधिक पानी पीने से यह खतरनाक साबित भी हो सकता है। यह उतना ही खतरनाक हो सकता है जितना पानी कि कमी होने से होता है। हमारे शरीर कि सारी कोशिकाओं और अंगो को पानी कि कुछ मात्रा नियंत्रित रूप में चाहिए होती है किन्तु अधिक पानी कि वजह से स्वस्थ्य कि समस्या उत्पन हो सकती है जिसे ओवरहाइड्रेशन भी कहा जाता है। इसे मानसिक रोग भी मन गया है जिसमे व्यक्ति अधिक मात्रा में पानी ग्रहण करता है। इसका सीधा असर हमारे गुर्दो पर होता है। 

उन व्यक्तिओ क लिए यह समस्या ज्यादा हो जाती है जिनके गुर्दे वह अधिक पानी बहार नहीं निकल पाते। हाइड्रेशन कि समस्या से बचने के लिए अक्सर हमे पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन करने कि सलाह दी जाती है किन्तु क्या आप यह जानते है कि दिनभर में जरूरत से अधिक पानी पीने से भी स्वस्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है? यह कहा गया है कि ओवरहाइड्रेशन भी हो सकता है जानलेवा। अधिक मात्रा में पानी का सेवन भी हो सकता है नशा जिसे हाइपोनेट्रेमिया कहा जाता है।

यह हाइपोनेट्रेमिया में सोडियम के स्टार कि वजह से सूजन भी हो सकती है। पानी स्वस्थ्य के लिए अच्छा माना या है किन्तु अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से हमे नशा और कोमा का दौरा भी हो सकता है।

कैसे jyada पानी पीना khatarnaak हो सकता है ?

आइये जानते है कि कैसे अधिक मात्रा में पानी पीना हमारे शरीर के लिए हो सकता है खतरनाक – 

सावधान: ज्यादा पानी पीना भी हो सकता ...
Jyada पानी पीना खतरनाक हो सकता है!

हमारे मस्तिष्क कि समस्या हो सकती है।

शरीर के खून में हाइपोनेट्रेमिया या फिर कम मात्रा में सोडियम कर सकता है हमारे मस्तिष्क को असर। इससे मानसिक रोग जैसे अस्थिरता, भाषा बोलने में समस्या उत्पन होना, भटकाव, मनोविकृति, आदि जैसी परेशानियाँ उत्पन होती है।

लीवर कि समस्या भी हो सकती है उत्पन।

यह जानना बहुत जरूरी है कि यह परेशानी बहुत खतरनाक हो सकती है केवल ज्यादा पानी पीने से नहीं होता है बल्कि अधिक आयरन वाले पानी से भी यह हो सकता है। आयरन की सही मात्रा कदापि खतरनाक नहीं है किन्तु कई दुर्लभ मामलो में लीवर से जुडी परेशानिया उत्पन हो सकती है।

पेशाब का लगातार आना।

जब भी आप अधिक पानी पीते है तो आपको बार बार पेशाब आ सकती है जो की आम बात है। इसके अलावा जब भी आप बहुत ज्यादा पानी पीते है तो वह आपकी किडनी लगातार काम करता है जिससे आपको बार बार वाशरूम जाना पड़ेगा।

किडनी की समस्या होती है!

अधिक मात्रा में पानी पीने से किडनी दबाव में काम करती है। आपके किडनी शरीर से हर घंटे में एक लीटर पदार्थो को साफ़ कर सकता है और इसके साथ ही होमोस्टैसिस बनाके रखने के लिए मेहनत भी करता है जितनी जरूरत हो।

Jyada पानी पीना khatarnaak – कैसे बचे और क्या उपाय करे?

हर व्यक्ति के शरीर का एक ही सिस्टम होता है और उसी के आधार पर हमे भूख प्यास लगती है। और तब ही शरीर में पानी की कमी होती है तो यह ही एक संकेत देता और पानी मांगता है। 

  • इसलिए हो सके तो ज़बरदस्ती पानी न पिए – अपने शरीर की ज़रूरतों को समझे। 
  • पानी तब ही पिए जब आपको प्यास लगे। 
  • ज्यादा पानी पीने की स्तिथि उन लोगो के साथ होती है जो काफी लम्बे समय तक व्यायाम करते है हर रोज़। 

उनके लिए पानी के अलावा स्पोर्ट्स ड्रिंक भी एक अच्छा विकल्प माना गया है। इन ड्रिंक्स में शुगर के साथ ही सोडियम और पोटैशियम जैसे एलेक्ट्रोल्य्तिस भी हो सकते है जो पसीने के रूप में बहार भी निकल जाते है। ठंडी में इतना पानी पीने की जरूरत नहीं क्यूंकि शरीर को उतनी जरूरत नहीं रहती है।

अब सवाल यह उठता है – 

पानी पिए कैसे? क्या है सही तरीका जिससे बीमार नहीं पड़ेंगे?

कई लोग मानते है खाली पेट पानी नहीं पीना होता, कई लोग मानते है खाली पेट पानी पीना आवश्यक है – तो क्या माने, क्या है सही? कई लोग मानते है – खाना खाने के बाद पानी पीना चाहिए कुछ लोग की मानता है खाने के बाद पानी नहीं पीना चाहिए? फिर से कंफ्यूज हो गए न? चलिए देखते है कैसे पानी पीना चाहिए और कितनी मात्रा में पानी पीना चाहिए।

अगर हम कहे की पानी पीने का सही तरीका किसी को नहीं पता है तो अब सवाल उठेगा की इसमें क्या साइंस है। पानी की बोतल को खोला और पी लिया तो क्या यह सही तरीका है? क्या आपको पानी पीने का तरीका समय के बारे में जानना है। तो चलिए जानते है कैसे पानी पिए और किस समय पर पिए जिससे बीमार नहीं पड़ेगे – 

पानी पीने से आपका मेटाबोलिज्म सही रहता है – Jyada पानी पीना khatarnaak!

दिनभर में कम से कम ८ से १० गिलास पानी पीना अवश्यक है। पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से हमारा मेटाबोलिज्म सही रहता है और उसीसे हमारी पाचन क्रिया सही तरीके से होती है। पानी पीने शरीर में फैट जमा नहीं हो पाटा है और यह तो सभी जानते है हमारा शरीर ७५ फीसदी पानी से बना है और पानी ही अलग अलग हिस्सों तक पोषक तत्त्व को पहुंचने में काम करता है।

और इसी के साथ पानी पीते रहना ज्यादा खाने की आदत को भी दूर कर सकता है।

गलत तरीके से पानी पीना हो सकता है खतरा और बीमारिया भी हो सकती है।

गलत तरीका, गलत समय और गलत मात्रा में पानी पीने से पेट में दर्द होता है जिससे पाचन में भी परेशानी हो सकती है। ब्लड प्रेशर, डायबीटीज, सर में दर्द, किडनी की समस्या, और सुस्ती जैसी परेशानिया भी हो सकती है। पानी की जरूरत हर किसी के शरीर के हिसाब से अलग अलग होता है किन्तु पानी पीने का सही तरीका जानना बहुत ही जरूरतमंद है।

पानी पीने का सही समय क्या है?

सुबह उठने के तुरंत बाद २ गिलास पानी पिए। आयुर्वेद में कहा गया है कि खली पेट पानी पीना काफी लाभदायक हो सकता है। ऐसा करने से शरीर से टॉक्सिन्स सारे बहार निकल जायेगे और शरीर कि सफाई अच्छी तरह से होती है। खली पेट सुबह पानी पीने से कब्ज नहीं होता है और इसके अलावा आप खाना खाने से ३० मिनट पहले पानी पीना चाहिए जिससे खाना आसानी से पचता है। खाना खाने के साथ तुरंत पानी भी न पिए खाना खाने के आधे घंटे बाद पी सकते हो जो आपके शरीर के लिए लाभदायक है।

कुछ और टिप्स ध्यान में रखिये – सतर्क रहिये jyada पानी पीना khatarnaak हो सकता है।

  • नहाने से आधा घंटे पहले पानी पीने से ब्लड प्रेशर कि परेशानी नहीं होती।
  • सोने से पहले पानी पीने से हार्ट अटैक का संदेह कम हो सकता है।
  • घर से बहार निकलते ही पानी पके निकले और साथ ही वर्कआउट करने के बाद भी पानी पीना आवश्यक है जिससे डिहाइड्रेशन कि परेशानी न हो। 
  • खड़े होकर पानी न पिए।
  • गत गत पानी न पिए सिप – सिप लेके पिए।

तो यह है कुछ माहिती पानी ज्यादा न और न ही कम पीना चाहिए जितनी आवशयकता है उतना पानी पीना चाहिए। इस तरह jyada पानी पीना khatarnaak हो सकता है।

READ  दांतो को Moti जैसे Chamakdaar बनाने के लिए घरेलू Upchaar।