मात्र Dialysis ही नहीं है, इलाज गुर्दे की समस्या ka

0
139

आपके गुर्दे छोटे होते हैं, लेकिन वे कई महत्वपूर्ण कार्य करते हैं जो आपके समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करते हैं, जिसमें आपके रक्त से अपशिष्ट और अतिरिक्त तरल पदार्थ को फ़िल्टर करना शामिल है। अक्सर लोगो को यही लगता है, की गुर्दों की बीमारी का इलाज सिर्फ डायलिसिस ही होता है। परन्तु, यह सच नहीं है गुर्दों की बीमारी का इलाज सिर्फ डायलिसिस नहीं है। डायलिसिस तब करवाया जाता है, जब किडनी 60% से ऊपर खत्म हो गई हो। हर साल तक़रीबन 1 अरब लोग इस समस्या से जूझते है, भारत में। इस लेख में आप जानेंगे गुर्दे में बीमारी होने की वजह, लक्षण, और उपाय।

अब सवाल यह उठता है की गुर्दे कि बीमारी की वजह क्या है?

ज़्यादातर लोगों को गुर्दे कि समस्या डायबिटीज़ यानी उच्च रक्तचाप के कारण होती है। कई बार ज़्यादा OTC दवाई का सेवन करने से भी यह समस्या उत्पन होती है। धूम्रपान, तम्बाकू या ज़्यादा शराब पीने से भी गुर्दे खत्म हो जाते है। कई सूत्रों से पता चला है की, हार्ट अटैक, कोई इंफेक्शन या लिवर खत्म होने से भी गुर्दे के सम्बन्धित बीमारी हो सकती है।

गुर्दे की बीमारी के लक्षण।

  • उल्टी आना, कमज़ोरी, थकान, ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई और भूख ना लगना, पेरो में दर्द और सूजन,आदि  लक्षण गुर्दे के मरीज़ में देखे गए है।
  • गुर्दे की क्षति, असामान्य दिल की लय, फेफड़ों में तरल पदार्थ, मूत्र में से खून, खुजली, गुर्दे की विफलता, अचानक वजन घटना। यह सब ज़्यादातर गंभीर बीमारी के लक्षण है।

घरेलू उपाय गुर्दे की समस्या से बचने के लिए।

  • ज़्यादा पानी पिए और दिन एक बार क्रैनबेरी का जूस पिए। परन्तु, ज़्यादा मीठा नहीं होना चाहिए जूस इसे आपके गुर्दे को नुकसान भी हो सकता है।
  • जिन सब्जियों या फल में विटामिन C हो उनका ज़्यादा सेवन करे इसे आपको काफी फायदा होगा। 
  • सेब खाएं या सेब के जूस पिए इसे गुर्दे में इंफेक्शन हुआ है, तो वो कम होगा। 
  • गर्म पानी का सेक करे ऐसा करने से आपको राहत मिलेगी और दर्द भी कम होगा।
  • लाल शिमलामिर्च, गोभी, लहसुन, प्याज़, पत्ता गोभी, जैसी आदि सब्जियों का सेवन करना आपकी सेहत के लिए अच्छा है।
  • खान पान में ज़्यादा ध्यान दे प्रोटीन और विटामिन से भरपूर भोजन करे। जिससे भविष्य में किसी भी अंग को बीमारी ना हो।
  • योगा या कसरत करे।

गुर्दे की बीमारी का इलाज।

  • गुर्दे की विफलता के लिए हेमोडायलिसिस एक विकल्प है, यह आपके रक्त को साफ करने के लिए एक मशीन का उपयोग करते हैं। यह डायलिसिस सेंटर या घर पर किया जा सकता है।
  • पेरिटोनियल डायलिसिस एक उपचार है जो आपके पेट क्षेत्र (पेट) के अस्तर का उपयोग करके आपके रक्त को साफ करता है, यह एक सफाई समाधान है जिसे डायलीसेट कहा जाता है। पेरिटोनियल डायलिसिस घर पर या किसी स्वच्छ क्षेत्र में।
  • किडनी ट्रांसप्लांट आपको किसी और के शरीर से एक स्वस्थ किडनी देने के लिए एक सर्जरी है। आमतौर पर गुर्दा वो देता है, जिसे आप जानते हैं या फिर अस्पताल वाले कोई सही व्यक्ति की गुर्दा लेते है। स्वस्थ गुर्दा वह काम कर सकता है जो आपके गुर्दे ने स्वस्थ होने पर किया था।
  • आयरन, सोडियम बिकाबोनेट, Erythropoietin (EPO) जैसी आदि दवाइयां दी जाती है।
  • ब्लड टेस्ट, यूरिन टेस्ट, जैसे कुछ टेस्ट करवाए जाते है।

यह, सिर्फ एक मिथ है कि गुर्दे से संबंधित कोई बीमारी ठीक नहीं हो सकती डायलिसिस के बिना। भूतकाल में लाखों की संख्या में लोगों को गुर्दे की बीमारी से छुटकारा मिला है।

कृप्या ऊपर लिखित किसी भी दवाई या नुस्खे का उपयोग करने से पहले एक बार डॉक्टर को अवश्य दिखाएं या उनसे सलाह ले।

READ  Blood Pressure का है नमक से क्या संबंध? जाने कैसे ओर क्यों?