गर्मियों में होने वाली बीमारियों से मिले छुटकारा।

0
157

गर्मी का मौसम दिल में नई उमंग और उत्साह भर के लाता है, कई लोगो के जीवन में खास कर बच्चों के। गर्मियों के मौसम में भारत में कई बार 52° तापमान हो जाता है, अप्रैल-मई के माह में। गर्मी के मौसम का इंतजार अक्सर लोग फलों के राजा यानी आम खाने के लिए और परिवार के साथ छुट्टी मना ने के लिए भी करते है। परन्तु क्या आप जानते है गर्मियों में कई ऐसी बीमारीयां भी होती है जो आपकी सेहत के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकती है। अधिकतर लोग इस बीमारी को आम बीमारी समज कर कुछ नहीं करते है। ऐसे लोगो के लिए ही तो किसी महापुरुष ने कहा है की,“ रोकथाम इलाज से बेहतर है”। 

परन्तु अब सवाल यह उठता है की आखिर गर्मी में बीमारियाँ होती क्यों है?

अक्सर गर्मी के मौसम में बीमारियाँ ज़्यादा धूप की वजह से होती है और यह धूप ज़्यादा उन्हें असर करती है जिनके शरीर में पानी की मात्रा कम हो। गर्मी के मौसम में ज़्यादा देर बहार रहने से को पसीना आता है, उसे भी कई बार बैक्टेरियल इंफेक्शन जैसी समस्याएं उत्पन होती है। पोष्टिक आहार ना ग्रहण करने से और डिहाइड्रेटेड रहने से भी पाचन तत्व एवं त्वचा सम्बन्धित बीमारियाँ हो सकती है।

आइए जानते है, गर्मियों की बीमारियों के बारे में।

 

  • तापघात।

 

गर्मी में आप सिरदर्द, त्वचा का सुख जाना, दर्द, उल्टी, और दुर्बलता जैसी समस्याओं से जूझ रहे हो तो यह शायद तापघात के ही लक्षण है। ऐसे तो गर्मी में यह समस्या का होना आम बात है, पर फिर भी अगर दर्द ज़्यादा हो तो डॉक्टर को दिखाना जरूरी है। ऐसे में डॉक्टर अक्सर हल्के कपड़े पहने की ओर धूप में नहीं निकलने की ही सलाह देते है।

 

  • धूप की कालिमा।

 

READ  Depression की बीमारी क्या है? जानिए उसके लक्षण, कारण और रामबाण इलाज।

ज़्यादा देर धूप में रहने से सूर्य की हानिकारक किरन आपके शरीर में आ सकती है, जो आपके लिए अच्छा नहीं है। जो लोग पहले से ही Melanin नामक बीमारी से पीड़ित है, उन्हें स्किन कैंसर भी हो सकता है। स्किन का अचानक बहुत जलन, उल्टी जैसे लक्षण हो तो डॉक्टर को दिखाएं। SPF 30 की ही सन स्क्रीन लगाएं।

 

  • खसरा

 

यह वायरल बीमारी अक्सर बच्चों में होती है, सांस के जरिए। यदि, पूरे शरीर में लाल रंग के दाने हो और थोड़ी खुजली या जलन भी होती हो तो यह लक्षण खसरा के है। कई बार जलन और खुजली भी नहीं होती है। घर में किसी को हुआ हो तो उनसे थोड़ी दूरी बनाए रखे।MMR  की इंजेक्शन लेना ज़्यादा बहेतर विकल्प माना जाता है।

 

  • अन्य बीमारियां।

 

गर्मी में जौंडिस, लू लगना, आँखो से सम्बन्धित समस्याएं,  जैसी आदि बीमारियाँ भी होती है। लू से बचने के लिए कच्ची केरी की चटनी खाए और बाहर निकलने से पहले खुद को अच्छे से कवर कर ले।

क्या क्या करना चाहिए।

गर्मी में 8 से 10 गिलास पानी पिए और हाइड्रेटेड रहे। फाइबर ज्यादा के और कैफ़ीन कम। हरी सब्जियां और ताज़े फलों का सेवन करे। रात के समय तहलने जाए। रस वाले फल अधिक मात्रा में खाए। सुबह का खाना रात में ना खाए। पूरे दिन में दो बार नहाए। पूरी त्वचा पर मॉइश्चराइजर लगाए इसे त्वचा अच्छी रहेगी।